गूगल समाचार अब हिन्दी मे !

तुलसी की लिखी हुई चौपाई याद आ गयी आज, "अति आनन्द उमगि अनुरागा..." जब गूगल के हिन्दी समाचार प्रष्ठ पर नज़र पडी तो। ना जाने कितनी बार google news India पर नीचे की सूची मे जा कर देखा था और सोचा था कि अगर यहां हिन्दी भी होती तो कितना अच्छा रहता। अब वह मनोकामना पूर्ण हो गयी है।

गूगल समाचार का आना सिर्फ़ एक भाषा प्रेमी का व्यर्थ का उत्साह नही है। इसके अनेक ऐसे फ़ायदे हैं जो कि शायद पहली नज़र ने दिखते नही हैं। अव्वल तो ये कि अब अलग अलग जाल प्रष्ठों को देख्ने के लिये अलग अलग फ़ोंट लगाते रहने की आवश्यक्ता नही है, जोकि हमारे आपके जैसे लोगों के लिये तो सिर्फ़ एक छोटी सी समस्या भर हो सकती है पर अनेकानेक लोगों के लिये बस वही अन्त हो जाता है। साथ ही साथ यूनीकोड मे होने से समाचारों को ढूंढना भी सरल हो जाता है।

पर इस सबसे बड कर बात है कि भाषा बदलने से समाचार पत्रों का पूर नज़रिया भी बदल जाता है। Google News India से अभी तक समाचारों की जो झलक मिलती थी वो अंगरेज़ी मीडिया के द्रष्टिकोण से दिखती थी, उन्हे क्या महत्वपूर्ण लगता है क्या नही वगैरह। हिन्दी समाचार पत्रों का द्रष्टिकोण इससे काफ़ी अलग हो सकता है। मेरे विचार से उस नज़रिये को भी पाठकों तक पहुचाना गूगल समाचार की सबसे बडी उपलब्धि है।

तो आप भी पडिये और आनन्द उठाइये।

Comments

ePandit said…
हिन्दी लिखने वालों की दुनिया में स्वागत है अभय जी। कहते हैं न जहाँ चाह वहाँ राह, आज ब्लॉगर सर्च के द्वारा मैं आपके ब्लॉग पर पहुँच गया। आप क्या सोचते हैं कि आप अकेले हिन्दी प्रेमी हैं। अजी जनाब कम से कम इस समय आपके जैसे ४०० जीव इंटरनेट पर मौजूद हैं। मैं आपको उनके पास जाने का रास्ता बताता हूँ। इसके लिए आपको हमारी बिरादरी में आना होगा। हमारी बिरादरी की कुछ साइटें निम्न हैं।

'नारद' एक साइट है जिस पर सभी हिन्दी चिट्ठों की पोस्टें एक जगह देखी जा सकती हैं। हिन्दी चिट्ठाजगत में चिट्ठों पर आवागमन नारद के जरिए ही होता है।

अतः नारदमुनि से आशीर्वाद लेना न भूलें। इस लिंक पर जाकर अपना चिट्ठा पंजीकृत करवा लें। नारद आशीर्वाद बिना हिन्दी चिट्ठाजगत में कल्याण नहीं होता।

'परिचर्चा' एक हिन्दी फोरम है जिस पर हिन्दी टाइपिंग तथा ब्लॉग संबंधी मदद के अतिरिक्त भी अपनी भाषा में मनोरंजन हेतु बहुत कुछ है।

अतः परिचर्चा के भी सदस्य बन जाइए। हिन्दी लेखन संबंधी किसी भी सहायता के लिए इस सबफोरम तथा ब्लॉग संबंधी किसी भी सहायता के लिए इस सबफोरम में सहायता ले सकते हैं।

उम्मीद है जल्द ही नारद और परिचर्चा पर दिखाई दोगे।

हिन्दी टाइपिंग के लिए सरलतम तरीका यहाँ पढ़िए:
Quick Start Guide for Reading and Typing Hindi Text

श्रीश शर्मा 'ई-पंडित'
ePandit said…
और हाँ हिन्दी इंग्लिश की खिचड़ी नहीं जमती। हिन्दी के लिए एक ब्लॉग अलग से बनाइए और उसे नारद पर रजिस्टर करिए। हिन्दी में न लिखने के लिए विषयों की कमी है और न पढ़ने के लिए।
abhaga said…
सूचना के लिये धन्यवाद। बाकी बिना मांगे सलाह देना आप जैसे गुणी आदमी को शोभा नही देता। आगे से ध्यान रखें।
हिन्दी चिट्ठे जगत में स्वागत है।
Ayush said…
जानकारी के लिए धन्यवाद |
गूगल हिन्दी के लिए काफ़ी कुछ कर रहा है , जिसकी वजह से काफ़ी लोगों में हिन्दी लिखने की उत्साह बढ़ रही है |

हाल ही में मुझे यह भी पता चला की गूगल अदसेंस हिन्दी में भी चालू कर दिया गया है | अब हम सब हिन्दी वेबसाइट और चिट्ठेकारों के लिए अच्छा मौका है कमाई करने का |
और गोस्ताट्स नमक कंपनी ने एक हिन्दी परिसंख्यान टूल http://gostats.in लॉन्च किया है जिससे हम सब अपनी वेबसाइट या चिट्ठों के ट्रैफिक के बरे में जानकारी ले सकते है |

Popular posts from this blog

क्या लिखूं?

गणतंत्र

बिछड़ते दोस्तों के नाम