Google Analytics

Monday, November 26

काठ की हांडी

बचपन में पढ़ा था
कि काठ की हांडी दोबारा नहीं चढ़ती
और दूध का जला छाछ भी फूंक फूंक कर पीता है।
लेकिन
काठ मारे हुए समाज की हांडी को
नफरत की कलई लगा कर
भावनाओं की आंच पर बार बार चढ़ाया जा सकता है।
बेकारी के दूध में
धर्म की अफीम मिला कर
कुंठित आशाओं के चावलों से
उन्माद की जहरीली खीर बार बार बनायी जा सकती है।
क्योंकि दूध का जला
छाछ भी फूंक फूंक कर पीना
जल्दी ही भूल जाता है।

No comments: